Web Story India
world of stories.

Independence Day Was Celebrated By INKZOID FOUNDATION.

Independence Day was celebrated by INKZOID FOUNDATION

Independence Day was celebrated by INKZOID FOUNDATION in a grand way as it was 75th year of our Independence which is a sign of respect towards the nation and gave platform to writers and other budding talents to show up their creativity and love through their write-ups and other activities which includes dance, recitation etc and helped them to give them a recognition through this article for their contribution in celebrating Independence Day with INKZOID FOUNDATION which shows their love and respect for our country India which also contains some celebrity alerts.

Celebrity Alerts

Harshaali Malhotra

Bajrangi Bhaijaan’s Munni, Harshaali Malhotra passed her best wishes of Independence Day to the nation and followed the trend of #HarGharTiranga on 75th Independence Day.

Shantanu Moitra

Bollywood Music Director Shantanu Moitra delivers a speech for the nation and passed his best wishes for the country.

Shakti Kapoor

Legendary Bollywood Actor, Shakti Kapoor was seen celebrating Independence Day with his morning walk friends in which they were holding Indian flags.

Picture Shared By Neha Dhupia
Neha Dhupia

Bollywood Diva, Neha Dhupia was also seen sharing a picture in which the kids were saluting the national flag which is a sign of respect towards the nation.

Kumar Sanu

Legendary Singer, Kumar Sanu came up with his new song named “Jaya Hey 2.0” on 75th Independence with 75 singers in one song which is a tribute to our nation.

Alakh Pandey

Physics Wallah aka Alakh Pandey sir who is an unicorn YouTuber and the current youth sensation of India passed his best wishes to the whole nation holding a Tiranga.

Anindya Banerjee & Durlav Sarkar

An Independence Day Special Event took place in which Actor Anindya Banerjee and Entrepreneur, Durlav Sarkar was seen holding the Tiranga and that was an event in which little kids where provided platform for a sit and draw competition.This event was organised by a NGO.

Durlav Sarkar appointed Model Para Ganguly

Celebrity Entrepreneur Durlav Sarkar appointed Model Para Ganguly as the face of INKZOID FOUNDATION on Independence Day which was a surprise to all the members of INKZOID FOUNDATION Family.

Para Ganguly
Para Ganguly

Para Ganguly was seen in a reel where she shared a message to the nation on behalf of INKZOID FOUNDATION where she tells that every religion is same and there is only one religion as we all are humans.

Durlav Sarkar

Celebrity Entrepreneur Durlav Sarkar also shared message to the country on independence day in which he told that there is only one religion all over the world that is humanity.

“36 Self Made Personalities”

India’s leading PR agency – Digital Golgappa declared the launch of the book named “36 Self Made Personalities” published by the best publishing start-up of India, INKZOID FOUNDATION which was a Independence Special Launch compiled by 9 different compilers.

Author Abhishek Kapoor

Best Selling Celebrity Author Abhishek Kapoor was very happy on this successful book cover launch and he told that it is a proud moment for him as this book is getting launch on Independence Day.

Zoya Lobo

India’s first transgender celebrity photo journalist, Zoya Lobo kept the Indian flag as her Insta profile picture to celebrate 75th Azadi Ki Mohatsav with #HarGharTiranga.

So Here Are Some Of The Wonderful Write-ups On India Written By Our Amazing Writers

PATRIOTISM

As an aloysian I salute my India in a special way,
I can give all my love to brother nation in a coequal way,
Adoring the renew to the nation,
Building a ransom of strong foundation.

When the tricolour of flag fly higher and higher,
I am proud to say I am Indian with numerous semantic fire,
Our land and religion is nation of sages,
Inviting all the divinity and being patriotic for ages.

Without any panic revealing the prompt of wisdom,
Securing back the lost unity and kingdom,
Obligated by the slaughter of numberless demise,
We got our democracy as a disguise.

When entire world shed tears in sorrow,
Contry of Indus can raise a latest novel tomorrow,
No torment will eternally motion down again,
For lacking the past people will be enduring the pain.

Today as we walk with liberity of pride,
With a gratification in us inside.
Honouring the superiority nationwide,
With patriotism and unionism our jewel in the crown got dignified.

©️ Geethika Reddy

Post Independence Personality who inspired immense

27th October 1993,
A day which holded a future Sky Warrior,
That tiny seed turns into a massive tree,
And gained popularity for the small town Deoland,
A small town in Shahdol district of Madhya Pradesh,
Through the passion towards the dream,
The passionate soul joined the college flying club,
Which fascinated the eager heart to fly,
And helped to have a few hours of flying experience,
In the University of Banasthali,
The striving aim made the soul,
To pass the AFCAT and further was recommended by AFSB,
The heart of dreams gained an inspiration,
From the elder brother,
An officer in the Indian Army,
Made the dedicated person to join the Indian Air Force,
The dedicated heart got selected for training,
At the Air force Academy at the age of 25,
The passionate,striving soul,through the hardwork,
Soon become the first Indian Woman fighter pilot to fly solo,
It was none other the Flying Officer,
India’s first female fighter Pilot Avani Chaturvedi,
She is one of the three in the first batch of female pilots,
Inducted in Indian Air Force fighter squadron on 18th June 2016,
Avani was an inspiration,
To all the passionate hearts to fly high.

-by J.Martina
Insta id: confluent2022

Proud INDIAN!

With many religions at one place,
Where there is humanity’s grace.
Every single being stays in harmony,
Where winters are moderate and summers are comparatively sunny.

Grace of different festivals,
Effects of different lights and colours.
A place where things are uniquely beautiful,
Calling oneself as an individual of India feels so wonderful.

No matter wherever I travel around the world,
I shall go back to the place where the Tricolour flag is unflured.
Where the sky and the ground mixes and the flag’s description is seen,
The colours of the flag; saffron, white and green.

The Ashok Chakra and it’s spokes between the Indian Tricolour,
Defines different principles of humanity and endeavour.
Where respect towards everyone is followed,
Where care and affection for other’s is shown.

No one can be so proud like we Indians are,
There’s no place like India beyond the seas or anywhere far.
Where the Moon is equally important as the Sun,
Where people work for their selves rather than recklessly having a run.

It wouldn’t have made me “me” by being somewhere else,
I proudly call myself Indian with God’s grace.
My country has helped me to frame myself in a better way,
The confidence within me I’ve received from the brave soldiers I get to see.

©Hetvi S. Patel

Like a sky, protecting us
Like a father blessing us
A holy soul

Like a earth caring us
Like a mother loving us
A matchless person

Like a tree serving us
Like a everything naturing us
A God’s incarceration

But they died, left there body
Which became our flag’s body
A gift from heaven

Bindesh kumar Jha

ऐ देश मेरे!

ऐ देश मेरे, मेरी पहेचान है तू…
मेरी जान, मेरा सारा जहान है तू…
ऐ देश मेरे, मेरा अभिमान है…
तिरंगे की आन है यह तो मेरी शान है…
इस माटी में क्या कमाल है…
मेरा भारत देश महान है…
हजारों गाथाएँ पढी़ वह सूनी जाती है…
यही मेरे भारत की पहचान है…

तुम क्या जानो कीमत आजादी की….
जिसको पाने में जाने कितनो ने शहादत पाई थी…
कुछ ही तो लौट कर आए थे दहलीज पर बाकी सैनिकों ने वीर गति पाई थी…
सींच सींच कर खून से देश को दिलाई आजादी थी…
एक आंसू तो भरो आँख में याद में उनकी…
जिनकी देश के वतन के नाम जिंदगानी थी…

गर्व है हमें अपने देश के जाँबाज वीरों पर देश की रक्षा के लिए है जो सरहदपर…
अपनी देश की आजादी में है इनका अमूल्य योगदान…
आओ मिल के प्रण करें व्यर्थ न हो इनका बलिदान…
यही मेरे भारत की पहचान है…
नमन है तुम्हे शत: शत: बार देश के वीर!!

Pranali Bhinge
pran_ali3141

Watch out for a place ,
Where i live in ……

I live in a country,
Where there is hidden beauty.

I live in a country,
Where there is blood of brave soldiers.

I live in a country,
Where farmers are giving their sincere services to feed everybody.

I live in a country,
Where everybody is treated equally.

I live in a country,
Where heard is sweet melodies.

I live in a country,
Where everybody moves with bravery.

I live in a country,
Where youth has great talent.

I live in a country,
Whose beauty is remedy to all the stress.

I live in a country,
Where proud indians walk with their broad chest.

I live in a very brave country,
I love my INDIA.
And i feel proud to be an INDIAN

Komal Arora

Independence of India
It’s just not a day or a word, it has a very big meaning behind..
India for Independence on 15th August, 1947 after the slavery of 200 years.
Pandit Jawaharlal Lal Nehru unfurled the National Flag at the Red Fort in New Delhi for the first time.
It wasn’t so easy to get rid of the British rulers and their rules, but because of the sacrifice of many freedom fighters finally India got its independence.
The first war of Independence was started in 1857, at Barrackpore by Mangal Pandey on the issue of cartridges.
After this the revolt spread to each and every region of India.
It’s variously known as,
The Sepoy Mutiny
The Indian Mutiny
The Great Rebellion
The Revolt of 1857
The Indian Insurrection
The First War of Independence.

The leader for Independence of India was Mahatma Gandhi.
And many people helped him to get rid of colonial rule.
Names like Bhagat Singh, Chandra Sekhar Azad,Rani Laxmi Bai lost their lives fighting for their land.
There were many andolanas, movements, etc. started against Britishers.

The main and the most important movements were,
Quit India Movement
Non-cooperation Movement
Revolt of 1857
Partition of Bengal
Swadeshi Movement
Kheda.

Dr. Rida Fatima

मेरी शान तिरंगा

तिरंगा उठाने वालों दृष्टि ज़रा ख़ुद पर डालो
क्या तुम हकदार इस शान के
जो गाते हो गीत अभिमान के

देश प्रेम के गुण गाते इंसा को लात लगाते हो
जात पात की मोहर लगाकर खुद को पाक बताते हो
देकर मातम मानुष को चलते हो सीना तान के
तिरंगा उठाने वालों दृष्टि जरा खुद पर डालो
क्या तुम हकदार इस शान के

गरीब पेट पकड़कर रोता तुम पेटियांँ भरते हो
हर हर गंगे कहते हो और बेटियांँ हरते हो
शहीदों को देते हो गाली और सौदे करते जान के
तिरंगा उठाने वालों दृष्टि ज़रा ख़ुद पर डालो
क्या तुम हकदार इस शान के

कहने से क्या होता अमृत जब तुम ज़हर उगलते हो
भाई भाई में भेद कराकर अपनी चालें चलते हो
दंगाइयों से हाथ मिलाते और पीछे हटते परिणाम से
तिरंगा उठाने वालों दृष्टि ज़रा ख़ुद पर डालो
क्या तुम हकदार इस शान के

कहने को साल पचहत्तर है पर हालात बद्तर से बद्तर है
मजदूर के हाथ से दूर महारथ और पसीने में तर बतर है
आजादी का मोल करो जो पाई ममता के प्राण से
तिरंगा उठाने वालों दृष्टि ज़रा ख़ुद पर डालो
क्या तुम हकदार इस शान के

हाथ उठाओ हाथ बढ़ाओ एक दूजे को चाक चढ़ाओ
मानवता का मूल पढ़ो खुद जागो औरों को जगाओ
तमस हटे जन जन फले जब मत ऊंँची हो ज्ञान से
उठा तिरंगा कहना “जय हिंद” तुम बढ़कर अभिमान से
तिरंगा उठाने वालों दृष्टि ज़रा ख़ुद पर डालो
क्या तुम हकदार इस शान के

Penned by:-
Aditi Agarwal

“भारतीय स्वतंत्रता दिवस”

1947 से हमारा भारतीय, तिरंगा है फहरा।
हर हिन्दुस्तानी का इससे रिश्ता, बहुत है गहरा।।

भारत देश मना रहा है, 75-वाँ आज़ादी का जश्न।
घर-घर तिरंगा फहराकर, हर हिन्दुस्तानी है मग्न।।

सुनो। 15 अगस्त 1947 के दिन, मिली थी हमें आज़ादी।
मुल्क़ के लिए क़ुर्बान हुई थी ,काफी आबादी।।

इतना आसां नहीं था, मुल्क़ को कराना आज़ाद।
मज़हब के नाम पर अंग्रेज़ों ने, कर दिया था बर्बाद।।

मुल्क़ के लिए न देखा, मज़हब और न जात।
बस आज़ादी के लिए लड़े, सब होकर एक साथ।।

मुल्क़ की आज़ादी में है, हर मज़हब के लोगों का हिस्सा।
हमें तो मालूम है बस, चंद लोगों का ही किस्सा।।

अशफाक उल्ला खान-राम प्रसाद बिस्मिल की, दोस्ती की है मिसाले।
यही है वह दोस्त काकोरी कांड को, अंजाम देने वाले।।

महात्मा गाँधी, रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह और भी है, बहुत से क्रांतिकारी।
जिन का हौसला, जज़्बा और जुनून, अंग्रेज़ों पर पड़ा बहुत भारी।।

पत्रकार मौलवी बाकिर ने दिखाई, अपनी कलम की ताकत।
तोप से दाग दिए गए जब, अंग्रेज़ों के लिए बने आफत।।

हमेशा रहते थे ये सब, मर-मिटने को तैयार।
अपनों से ज़्यादा वतन से, इन्हें था प्यार।।

आज़ादी के वक़्त बस यही, सोचता था हर इंसान।
कैसे आज़ाद हो हम सबका, प्यारा हिंदुस्तान, हिंदुस्तान, हिंदुस्तान।।

Mohd. Farhan Alam Lari
@funkaar_farhan.lari

हम में है हमारा हिन्दुस्तान

आज़ाद है हम
आज़ाद देश के है हम,
शत शत नमन है करते आज हम
जो ये आजादी देख इतराते हम।

अनगिनत वीर वीरांगनाएं
ने रक्त से है सींचा,
तब जाके हमारा तिरंगा है फहरा
तब जाके आज देश है मेरा महका।

ये महक, ये चहक, रोशन
ये जहां बना रहे तो सरहद पे
आज भी लैस है सैनिक,
जिनके जगने से, हम है
सोते सुख की नींद घरों में अपने।

तो एक दायित्व हमारा भी बनता,
कि चढ़ने न दे अपना देश प्लास्टिक और प्रदूषण, धर्म और राजनीति की भेट।
स्वतंत्रता से बढ़कर कुछ और नहीं,
देश से बढ़कर कुछ और नहीं…
न मैं न तुम, हम में है हमारा भारत,
हम में है हमारी ताकत,
हम में है हमारा हिन्दुस्तान एक…।

By : Poetry Khakholia Mundra (Mcom, Med Llb) Guwahati, Assam
Insta I’d: _befikr_lafz

आजादी का अमृत महोत्सव

राष्ट्रधर्म का गौरव प्यारा , आज हम हैं देखो बढ़ाने चले ।
आजादी का प्रतीक तिरंगा,आज घर -घर में हैं फहराने चले ।

उत्तुंग शिखर हिमालय से लेकर, हिन्द महासागर तक फैला है।
अरुणाचल से गुजरात कच्छ तक,यह भारत देश ही छैला है।

दसों दिशाएं आलोकित जिसकी, है वीरता जिसके जर्रे- जर्रे में।
पुरुषार्थ छिपा है राष्ट्रप्रेम का , यहां जीवन याप के हर ढर्रे में ।

तिरंगा है यह खिलौना नहीं, हर रंग का लहदा भाव निराला है ।
शौर्य,वीरता, शान्ति,समृद्धि,मध्य चक्र प्रतीक समय का डाला है।

वीर बलिदानियों की कुर्बानी की कहानी,तिरंगा याद दिलाता है।
इतिहास पढ़ा देता है वह बंदा, जो घर – घर तिरंगा फहराता है।

आजादी के दीवानों ने प्रणाहुतियों से, यज्ञ को सफल बनाया था ।
गुलामी की बेडौल जंजीरों से,भारत को आजाद करवाया था।

इसे संभालना,जश्न मनाना,अब तो हमारे ही हिस्से में आया है।
मिलजुल कर देश को बढ़ाने का,गुर पुरखों ने हमें सिखाया है।

आजादी के अमृत महोत्सव की, पावन बेला भारत में आई है।
बच्चे से बूढ़े ,अमीर – गरीब ने,यह बेला सबने ही तो मनाई हैं।

राजेश सतपते, हैदराबाद

Insta I’d rajesh.satpate

“मैंने ऐसा भारत का वीर देखा है”

भारत के अमन चैन में,जमाने ने सिर्फ फूल देखा है,
देखा नहीं जिसने बलिदान मेरे वीरों का,
पर हमने तिरंगे में लिपटे, हर मां का खून देखा है…..

तुमने देखे हैं मज़हब जात के,हमने तो हर धर्म में प्रेम देखा है,
देखी नहीं जिसने कुर्बानी उन लालों की,
पर हमने उन शहीदों में ,आज़ादी का धर्म देखा है…..

जन्मभूमि के सम्मान में,हर वीर में शौर्य देखा है,
देखा नहीं जिसने रौद्र रूप उनका,
पर हमने हर सेनानी में ,एक वीर भद्र देखा है….

सीमाओं के सुरक्षा में,हमने उनके त्याग का समर्पण देखा है,
देखा नहीं जिसने साहस उन कर्मवीरों का,
पर हमने उनके संस्कारों में , हिफाज़त का खून देखा है…

जिनको ज़मीन को अपनी मां,और गगन को पिता कहते देखा है,
देखी नहीं जिसने तड़प उनके दूरी की,
पर हमने खिड़की की ओट से विरहा की आग में तड़पी,हर प्रेमिका को रोते देखा है….

तिरंगे की शान को बचाने में ,पहाड़ सा सीना देखा है,
देखी नहीं जिसने दहाड़ उन शेरों की,
पर हमने निडर होकर लड़ते,हर घर का गौरव देखा है….

अलबेलों की इस धरती में, तोयहारों का रंग देखा है,
देखें नहीं जिसने दिवाली में ,अंधेरे उनके रातों के,
पर हमने राखी में भी,हर जवान की कलाई को सूना देखा है…..

सत्य- अहिंसा की आग में, पग- पग में जलते देखा है,
देखा नहीं जिसने संघर्ष उन सपूतों का,
पर हमने स्वतंत्रता की चाह में, कटते कितनों के शीश को देखा है…

भरी पड़ी देश में,उन वीरों की गाथा में, हमने नदियों में बहते उनके रक्त का नीर देखा है,
देखी नही जिसने व्यथा उनके,बेटी,बहन और मां की,
पर हमने नए जोड़े में भी ,अक्सर एक दुल्हन को विधवा होते देखा है……

Rupali Dwivedi

Tribute to Indian Forces

Indian forces works its best,
With their hardwork we can have a sleepful rest.

They are the perfect models to learn patriotism,
Serving just for their country, neither for fame nor just for showing nationalism.

Our forces are our pride,
Their dedication never lied.

Their mission is their aim,
We say life is a game but our soldiers are the real players in that game.

They also have their hearted family,
But being the best social workers securing even unknowns’ family.

It’s quite struggling to stay away from their hometown that is their heart,
But still contributing for the mother nation respecting soil as their part.

Donating their lives to secure the country’s life,
Unfortunately in some missions martyring with their nostalgic memories spent with their family and country in their whole life.

Martyring for country is their utmost passionate gift to their country and their grief we all can feel,
But especially for their disheartened families watching their departed soul’s bodies at the end moment enshrouding Indian flag, it’s quite difficult to deal.

Poets can only write being responsible writers,
To provide tribute to the countrymen for their humanity, patience and social welfare being true fighters.

Sahaj Sabharwal(B.E. Aeronautical engineering student)Jammu city, J&K, India

एक नया सांविधानिक कानून मेरी

हमारा भारत एक है,
उसमें रहने वाले
भारतवासी एक है,
तो फर्क क्या है?
कोई फर्क मुझे तो नज़र
नहीं आता।
हमारे भारत की सबसे बड़ी कड़ी,
जो हमें एक दूसरे से बाँधे रखती है, वो है उसकी एकता।
हमारा भारत हमेशा एकजुट होकर लड़ाई के लिए
प्रस्तुत रहता है।
कोई भी बाहरी व्यक्ति इसकी एकता को हिला नहीं सकता।
हो सकता है कि,
हमारे महज़ब अलग हो।
हो सकता है कि,
हमारी जाती अलग हो।
हो सकता है कि,
हमारी भाषा अलग हो।
हो सकता है कि,
हमारे शरीर के रंग अलग हो।
हो सकता है कि,
हमारी आर्थिक स्थिति अलग हो।
लेकिन हमारे अंदर का खून,
एक है।
हमारी राष्ट्रीयता, एक है।
हम गर्व से कह सकते हैं, की
हाँ, हम भारतीय हैं।

अगर कोई नया सांविधानिक कानून लागू होना चाहिए,
तो मेरे विचार में,
पहला कानून,
देश की एकता होनी चाहिए।
कोई भी बाहरी व्यक्ति हमसे हमारा परिचय पूछे,
तो हमारा सबसे पहला जवाब यह होना चाहिए की हम भारतीय है।
हमारी जाती, हमारा धर्म, हमारी भाषा बाद में आती है।
सर्वप्रथम हम भारतीय है।
हमारी संस्कृति एक है,
तो हम कैसे अलग हुए।
यह फर्क हमें सबसे पहले अपने मन से मिटाना होगा।
तब ही हम एक हो सकते हैं, और हमारी सोच मिल सकती है।

दूसरा कानून जो लागू होना चाहिए, मेरे विचार मैं,
वो है,
औरतों की इज्जत का कानून।
औरत जात, महिला, लड़की, बेटी, बहन, माँ, पत्नी सभी इज्जत के हकदार हैं।
सर्वप्रथम पुरुषों को यह
समझना चाहिए कि,
औरत कोई चीज़ नहीं है।
वह एक इंसान है।
उसका भी दिल है,
जिसे चोट पहुँच सकती है।
औरतों को मारना, पिटना पाप है।
किसी भी पती को ये हक नहीं है, कि वो अपनी पत्नी पर
हाथ उठाएँ।
किसी भी पुरुष को यह हक नहीं है, कि वह महिलाओं का अपमान करे, उसे गंदी नजरों से देखे, उसके मान सम्मान पर हाथ डाले, उसका बलात्कार करे।
किसी भी पिता को यह हक नहीं है, कि वह अपनी ही बेटी होने पर इंकार जताए, संतान जीवन की सबसे बड़ी कामना होती है,
तो क्या फर्क पड़ता हैं की,
वह बेटी हो, या बेटा।
पुरुष यह भूल जाते हैं, की उन्हें जन्म देने वाली भी एक माँ ही है।
वह ये भूल जाते हैं, की उनकी जीवनसाथी, उनकी पत्नी भी
एक औरत है।
अगर माँ, औरत के रूप में स्वीकार है।
पत्नी, औरत के रूप में
स्वीकार है।
तो बेटी क्यों नहीं?
क्यों बेटी को माता पिता के उपर बोझ समझा जाता है।
क्यों बेटे की चाह में बेटी को गर्भ में ही मार दिया जाता है।
आखिर क्यों,
क्या यह अन्याय नहीं है।
क्या यह अपराध नहीं हैं।
तो दूसरा कानून औरतों के, महिलाओं के हित में होना चाहिए।

तीसरा कानून,
जो लागू होना चाहिए,
वो है,
दहेज प्रथा के खिलाफ आवाज उठाने का कानून।
बेटी कोई बोझ नहीं है,
जिसे बेचा जाए।
लड़कियों का भी कोई अस्तित्व होता है, उनकी भी कोई
पहचान होती हैं।
किसी को ये हक नही, की वह दहेज जैसी घटिया मानसिकता का रूप दिखाकर लड़कियों के आत्म सम्मान को ठेस पहुँचाए।

और भी कई कानून है
जो लागू होने चाहिए,
उनमें से कुछ है,
उन गरीब, उन बेसाहारा, उन बिन माँ बाप के बच्चो के लिए, जो दो वक्त की रोटी के लिए तरसते है।
जिनके पास न पहनने के लिए कपड़े हैं, न खाने के लिए खाना है। जिन्होंने कभी यह महसूस नहीं किया की बचपन क्या होता है। जिनका बचपन काम करने में, भिख माँगने में गुजर गया।
इन बच्चो के लिए एक कानून तो होना ही चाहिए।

हमारी राजनीति के लिए,
जो दिन रात युवाओं को लूटते है,
बंद करो हमें लूटना।
बंद करो झूठे वादे करना,
बंद करो देश को बर्बाद करना,
बंद करो दंगे, फसात करना,
बंद करो हिन्दू मुसलमानों
की लड़ाई,
जीने दो, हम भारतीयों
को चैन से।

औरत और आदमी की समानता का कानून।
लड़की और लड़के के भेद को मिटाने का कानून।

भारतीयों के अधिकारों का कानून।
सभी भारतीयों को समान अधिकार मिलन का कानून।

सभी बच्चो कोे शिक्षित करने
का कानून।
सभी बच्चो को शिक्षा मिलनी चाहिए।

देश को सुरक्षित रखने का कानून।
अपराधियों को सजा देने का कानून।
गरीबों के अधिकारों का कानून।
भ्रष्टाचार रोकने का कानून।
युवाओं को नष्ट होने से रोकने
का कानून।

ऐसे कई और कानून है, जो ठीक ठाक हमारे देश में नहीं है।
अगर यह कानून लागू हो जाए,

तो भारत को दुनिया में रोशन होने से कोई नहीं रोक सकता…..

Shreya Saha

भारत है देश हमारा
हमको अपनी जान से प्यारा
इस की इज्जत हम सबको प्यारी
इस की सुंदरता बहुत न्यारी

लाजवाब है पूरी दुनिया मैं
तारिफ के काबिल है
हम सबको इस पर गर्व है
इस में कोई तर्क नहीं है

हिंदुस्तान का दिल है इतना साफ
की सबको कर देता है माफ़
पूरी दुनिया में बाजे डंका
इस में कोई नहीं है शंका

कई महान महाराज यहां पले
इन्हें देख कर सब जले
रचे है इतने इतिहास
यहां पर हर धर्म है खास

सरहद पर है जवान
खेतो पर है किसान
एक हमारी रक्षा करे
तु दूजा हमारा पेट भरे

मर मिटेंगे अपने देश के लिए
चाहे कुछ हो जाए
दुश्मन चाहे हथियार ले आए
चाहे निहत्था आए
हम सदा जवाब देते है करारा

Guneet Malik

Sarat Chandra Bose was an eminent person He studied in prominent colleges in Kolkata and went to England to become Barrister. He started legal practice but returned to India to join Indian Independence Movement. He served as member of All India Congress but unfortunately after Subhas Chandra Bose escape he and his son was arrested. Bose resigned from AICC and after independence formed Socialist Republican party. He had helped Subhas and Gandhiji in various Movements organised. He was an independent activist
Declassified files :
He was in close contact with the Japanese He was under constant snooping He had been getting invitations to attend programmes against Nehru Government His whooping victory against Congress strengthened his grounds

Sohini Sarkar

मेरा भारत कोई भूमि का टुकड़ा नहीं है

वीरांगनाये जन्म लेती है यहाँ की मिट्टी में!
लड़ती है और शहीद होती है रोती अपना दुखड़ा नहीं है!
वीरो और वीरांगनाये लेती जन्म इस इस मिट्टी से!
मेरा भारत कोई भूमि का टुकड़ा नहीं है!
है देवी -देवतायो और कई ऐतिहास छुपा यहाँ पे!
जितना पढ़ो ज्ञान उतना ज्यादा मिलेगा हम जितना ऐतिहास किसी का तगड़ा नहीं!
पैदा होते है शूरवीर और छत्रपति शिवाजी जैसे वीर!
मेरा भारत कोई भूमि का टुकड़ा नहीं है!
नदियाँ बहती है यहाँ से हरयाली मिलती है इधर!
गाँव में मिलता अपनापन अपने लोगो के साथ मिले जो फिर कोई बिछड़ता नहीं है!
याद आता है बचपन और शरारतें बचपन की!
मेरा भारत कोई भूमि का टुकड़ा नहीं है!
शहीद होने को तैयार सपूत भारत माँ के!
मात देते है और शौर्य दिखाते अपना और दुश्मन फिर हमसे भिड़ा नहीं है!
है रखवाले भारत माँ के हमेशा जो दिलाते सम्मान और समझते भारत माँ को माँ अपनी!
मेरा भारत कोई भूमि का टुकड़ा नहीं है!
©kalamkaar
Insta : Kalamkaar1517

India is the birth place for so many religions around the world.

India is our teacher for subjects like culture and hospitality.

We have Rann of Kutch: The Land Of The White Desert, Delhi: A Potpourri Of Different Cultures,Amritsar: The Golden City In Punjab,Rajasthan: The Land Of Rajputs and so many more beautiful cultural heritage which all of us intend to visit! Travel the world,see the beauty of India!

Yes,as we are indians we do aquire traits of our parents but as the generation has been evolving every now and then, we know that India is divided into states, countries, continents etc but it all falls under one name,INDIA.

INDIA is united,India has Dhyan Chand Award, Dronacharya Award,Arjuna Awards and so many more which names you probably have never heard of .

Let’s be proud citizens this independence day by singing Jana Gana Mana and hosting flag briskly and lowered slowly, ceremoniously.

Bharat Mata ki Jai

©Smilee Prashant Bhatt
Ig-@lookingfortheproperway_

भारत भूमि

जिस भूमि में जन्म लिया,
उस भूमि में मर जाना है,

चाहें मुसीबतों का पहाड़ मिले,
या हों खुशियों से भरा कोई त्यौहार,
इस भूमि पर जगमगाना है,
सबको यही सन्देश सुनाना है,

वीरों की कुर्बानियों को याद रख,
आगे बढ़ते है,
ये देश हमारा है,
सारे प्रान्त को ये कथन समझाना है,

यहाँ जाति धर्म से सबको दूर ले जाना है,
भारत की भूमि को और हारा भरा बनाना है,
हम सब राष्ट्र भक्त है,
फिर क्यूं आंदोलन का पथ अपनाना है,

ना जाने इस दिन के लिये,
कितनी माँ अपने बेटे से दूर हुई होगी,
ना जाने इस देश कितनी ही पत्नियां अपने पति को याद कि होंगी,

हिमालय का मुकुट जैसे इस,
भारत की जान है,
जहाँ हिंदी भाषा का अपना अलग़ ही गुजता श्रंक नाद,

यहाँ की हर बोली को हमारा सलाम,
यहाँ की हर नदी को मेरा प्रणाम,

ऐसी मेरी भारत भूमि महान,
जिसका गुणगान बढ़ता ही जाये हर साल।

स्वरचित –
मीतू चोपड़ा
मध्य प्रदेश (जबलपुर)

Desh ki Aan Tiranga
Desh ki Shan Tiranga
Lahu se Lahu bahayenge
Teri Khatir hum Jaan lutayenge
Mitt jaayenge Mar jaayenge
Teri shaan ke liye Tiranga
Har ghar hai Tiranga
Har Mann hai Tiranga
Mere Desh ki Aan Baan hai Tiranga

Gandhiji ke padh chinho se seecha Aazadi ka Maan hai
Dr. Babasaheb Ambedkar Ji se bana Savidhaan hai
Savitri Bai Phule Ji se bana Stri shikshan ka itihaas hai
Rani Laxmi bai Ji ki veerta ka abhimaan hai
Tirange ke liye Shahid huye Bhagat Singh ji, Sukhdev ji, Rajguru ji yeh Teeno vardaan hai…
Desh ki Aan Tiranga
Desh ki Shan Tiranga
Har Ghar hai Tiranga
Har Mann hai Tiranga

Jaliyan wale baug ke itihaas se
Aasu nahi rukhte hai
British rajjye ke shashan se
Krodh Mein hum tapte hai

Sone ki chidiya ko noch noch kar kaata
Itihaas swarn chidiya ka apne showroom mein baata

Iss Desh ki Aazadi ka Tiranga aise leharaya
British rajjye Ka samrajjya
2 din bhi tik naa paya

Balidaan Diya Bharat ke logo ne
Iska Amrit hum chakte hai

Iss Desh ki Khatir hum Din Raat Jalte hai

Aazadi ka Amrit Mahotsav hum Har din jeete hai

Pranaam hum karte hai
Sajde mein jhugte hai
Iss Aazadi ki ladhayi mein Shahid huye Har veero Se Dil se Naman hum karte hai

Desh ki Aan Tiranga
Desh ki Shan Tiranga
Har Ghar hai Tiranga
Har Mann hai Tiranga

Khushbu Gulab Fadke

हर घर तिरंगा

नाचते गाते है
हम ख़ुशी से झूमते है
सबको याद करके
हर घर तिरंगा लगाते है

छोटे बच्चे ईश्वर की देन है
आज वह भारत माँ को याद करते है
हर घर तिरंगा लगाते है

सब बड़े बड़े लोग एकता दिखते है
तिरंगा हात में लेकर स्वाभिमान जगाते है
हर घर तिरंगा लगाते है ।

लाल किल्ले पर और बड़े बड़े इमरती पर
तिरंगा लहराते है
और अपना प्रेम दिखाते है
हर घर तिरंगा लगाते है

कश्मीर में एकता का झेंडा दिखाके
झेंडा हर रस्ते पर फड़काते है
यह भारत का स्वाभिमान है
हर घर तिरंगा लगाते है

भारत माँ के वीर जवान
झेंडा दिखाकर
सन्मानित करते है
हर घर तिरंगा लगाते है

मेहनत करके डॉ.बाबा साहेब आंबेडकर ने
भारत की शान बढ़ाये है
हर घर तिरंगा
हर घर तिरंगा
हर घर तिरंगे
इसका नारा लगाते है

सविधान के पन्नो पर
घटना लिखी है
सविधान द्वारा
अपनी गर्दन ऊची हुयी है
हर घर तिरंगा
हर घर तिरंगा
हर घर तिरंगा
देश का स्वाभीमान है

Vatsala Gulab Fadke

“भारत की सैर”

आओ करे सैर भारत की,
देखे और जाने सुंदरता इसकी।

तराशा ताजमहल शाहजहाँ ने संगमरमर से,
देता ये प्यार की मिसाल अनोखी।

ऊँची देखो क़ुतुब मीनार बनी,
छूती आसमान के शिखर को कैसी।

बसा जयपुर में हवा महल सुन्दर ,
क़िला आमेर करता बयाँ कहानी राजों की ।

हैं अनोखा अजब महल विक्टोरिया,
कहलाता कोलकाता की शान देखो ।

इंडिया गेट की हैं बात निराली,
दिलाता याद शहीदों की शहादत ख़ूब ।

सिखाता बलिदान आज़ादी का,
है सबूत जलियाँवाला बाग़ अमृतसर का ।

सूर्य मंदिर बिखेरता रोशनी सूरज की ,
कलाकृति बना दी नरसिम्हा ने कोणार्क में ।

लाल पत्थरों से तराशा मुग़लों ने
है लाल क़िला शान राजधानी की ।

दिखाया हुनर चट्टानो का देखो,
दीं बना बोलतीं प्रतिमा अजंता की गुफ़ाओं में।

बसा कर्नाटक की वादियों में हम्पी,
ये है सुंदरता की अनोखी मिसाल देखो ।

प्रेम को दर्शातीं मूर्तियाँ अद्भुत ,
है खजुराहो का अभिमान देखो ।

कश्मीर के सुन्दर बाग़ कहते मन से,
बस जाओ इस स्वर्ग में आके ।

हिमाचल की बर्फ़ीली श्रिंखला मानो ,
पिरोई हों एक ही माला में देखो ।

केरल की प्रकृति में खोया ये मन ,
है एहसास शांति का ये देखो ।

हृषिकेश में बहते झरने कल कल ,
जैसे फैलीं हो ख़ुशियाँ चारों ओर देखो ।

नैनीताल के तालों की ताल कैसी ,
देते मेरे मन को सुकून ये देखो ।

कोयल की कूक तो सागर की लहरे बहती,
देतीं प्यार का एहसास ये देखो ।

है प्यार ओर अपनेपन का एहसास ,
कहते है इसको भारत इसकी संस्कृति देखो।

-Dr Aditi Dev

Green earth
have a blue sky
fluttering tricolor,
Let the moon be like the stars.
renunciation gallantry
the mantra of greatness
my country

peace be at peace,
be happy
children to elders
make everyone happy

in all our faces
keep smiling
fluttering tricolor moon
Be like stars.

sweet love my country,
Punishment – my country
the world to be proud of,
Nayan star my country
Silver-gold my country,
Successful Salona my country
corner of happiness my country,
my country of flowers
swarming my country,
My country of the garland of Ganga Yamuna
my flower country
Go ahead my country
New smiles my country
Write the name of my country in the history

Debanjali Adhikary

देश के गद्दार।

देश को तो तुमने बांट दिया
मिट्टी को कैसे बांटोगे।
नदियों को तुम ने बांट दिया
पानी के उस लहरों को कैसे बांटोगे
चांद और सूरज को तुमने बांट दिया
उस की रोशनी को कैसे बांटोगे
मंदिर और मस्जिद को तुमने बांट दिया
ईटों और पत्थरो को कैसे बांटोगे
ह हिंदू और मुस्लिम को आज तुमने कोर्ट पर खड़ा कर दिया
भगवान और अल्लाह को कैसे पेश करोगे
खून को तुमने बांट दिया
खून के रंग को कैसे बदलोगे
इंसानों को तुमने बांट दिया
इंसानियत को कैसे बांटोगे
हवाओं को तुमने बांट दिया
हवाओं की दिशा को कैसे बदलोगे।
चलो मान लिया हवाओं की दिशाओं को भी तुमने बदल दिया
लेकिन सांस को कैसे तुम रोकोगे?
अब इतना तुमने बंटवारा कर दिया
तो अब बांटे हुए को कैसे तुम संभालोगे
जितना तुम ने बांटा है, उतना तुम भी बांटोगे
खुद को कैसे तुम जोड़ोगे?
बांटे हुए को कैसे तुम छोड़ोगे?

Anwesha Rath

Little-lovable-lovely, those who smell Gulshan
Those who bring the stars to the ground, we are the children of India
New age hearted, not afraid of storms
They are called courageous, we are the children of India.
We walk with pride, we save from malice
Come on, we are the children of India.

Era change is happening, Nav Bhaskar is rising in my country,
The power of my country, rooted in ages, can be strengthened in my country.
No country should make this mistake, that India’s power is not strong,
My country has won many battles, my country is no less than anyone.

There is a history of fierce wars like Mahabharata in my country.
Sons like Bharati’s son Arjun, have fighting skills in my country.
Following Shri Krishna, peace here is no less,
We used to teach lessons of battle skills, my country is no less than anyone.

By – Siddharth Mishra

In the 17th Century Europeans traders came to India and established their outposts.
By the 18th Century, The East India Company fought and annexed all the local kingdoms and established themselves as the Rulers.
The Indian Rebellion of 1857 was the biggest fight for freedom in India.
This revolt was firstly started by Mangal Pandey on 29th March, 1857 at Barrackpore Parade ground near Calcutta.

The revolt of 1847 is variously described as the Sepoy Mutiny, the Indian Mutiny, the Great Rebellion, the Revolt of 1857, the Indian Insurrection, and the First War of Independence.

15th August is the day when the provisions of the 1947 Indian Independence Act, which transferred legislative sovereignty to the Indian Constituent Assembly, came into effect.
On 15th August, 1947 the colonial rule completely came to an end.

Main Movements,
Quit India Movement
Non-cooperation Movement
Revolt of 1857
Partition of Bengal
Swadeshi Movement
Kheda.

Some Important Leaders,
Mahatma Gandhi
Bal Gangadhar Tilak
Bhagat Singh
Chandrasekar Azaad
Lala Lajpat Rai
Rajendra Prasad
Vinayak Damodar Savarkar
Bipin Chandra Pal
Dadabhai Naoroji
K.M. Mushi
Gopal Krishna Gokhale
C.Rajagopalachari
Sukhdev
Lal Bahadur Shastri
Savitribai Phule
Rani Gaidinilui
Dhan Singh Gurjar
Maghfoor Ahmad Ajazi
Jogesh Chandra Chatterjee
Madan Lal Dhingra
Manmath Nath Gupta
Roshan Singh

After being ruled by the British East India Company (1757-1857) and British Crown rule (1858-1947), India gained freedom after a struggle of about 200 years.

By – Gunwanti Harish Thanvi⁩

बेमिसाल   ७५  साल

कितना कुछ  बदल  गया इन  ७५  साल में,
पर आज भी देखू  भारत  को मैं एक उत्सुक  बालक  की तरह |
जो अग्रसर  कर रहा  महाराणा  प्रताप  के भाँति |
जिस भारत को समझा विदेशियों ने शिक्षा  में  नकारा,
आज उसी भारत  की  IIT और ऐइम्स  बन  गयी  है  विश्व  के लिए सबसे बड़ा सहारा |
जब उठा  माँ भारती  के विद्वानों  की  योग्यता  पे सवाल,
तब पोखरण और आर्यभट्ट  की ऐतिहासिक  तारिको   ने मचा  दिया  सारे  विश्व  में  बवाल |
जब  ज़हरीले   तीरों  से नेजतनाबूत करना  चाहा विदेशी  ताकतों  ने हमारा स्वदेशी  खेल,
तब उन्ही  के गढ़  में  मेज़बानों  को हराकर  हमने किया सारे आलोचकों  को फेल |
जिसकी बदौलत आज  भी  है हमारी बादशाहत   सलामत,
और ओलंपिक्स  , राष्ट्रमंडल  खेलो में  मचाई  है हमने आफ़त |
जब तानाशाही  से तबाह   हो रहा  था पडोसी का घर,
तब एक दुर्गा ने सत्ता  के महिषासुर  का संघार  कर  दी हमारे अभिन्न  मित्र  को नयी पहचान |
जिसकी   आज तक करती  है दुनिया गुणगान |
जब   भूखमरी  के तूफ़ान  ने तोडना  चाहा  हमारे  अन्नदाता  का विश्वास,
तब एक  हरे  सिपाही  ने लाई  ऐसी  क्रांति |
जिसे  देख  आज  भी पूजते  हमारे  किसानों  को दिन रात |
जब समझते  थे  हमारे  शासक  हमें  उनके  सबसे  प्रिय  खेल  में नालायक ,
तब एक सूरमा ने  क्रिकेट के मदीना पर ऐसी बारात लूटी |
जिसके पश्चात नस्लभेदी लोमड़ियों की हर रात नींद  इस  तरह टूटी  |
जैसे  किसी ने पपड़ी  पर  पोती  हो वॉल  केयर  पुट्टी |
करते  है हम २५ जून  १९८३  का आभार ,
जिसकी वजह से मिले हमे खिलाडी शानदार |
जब लगा कि  हमारे सांस्कृतिक खेलो को लगने वाला है ग्रहण ,
तब के. डी  जी और साइना  दीदी  ने मचाया ऐसा डंका |
जिसकी याद से आज भी हिल  उठती है आलोचकों  की लंका |  
क्यूंकि सिंधु, बजरंग  ,साक्षी और लक्ष्य  के प्रदर्शन ने मिटा  दी हर  सारी शंका |
वो दिन भी थे जब हम तरसते  थे  एथलेटिक्स में अपना  परचम  लहराने  के लिए ,
पर मिल्खा , नीरज,  शंकर , अंजू  आदि  ने मारे  इस  सूखे  तालाब  में कामयाबी  के इतने  कंकड़ |
की लगे दिल को की दिल्ली अब  दूर  नहीं ,
क्यूंकि इस फितूर को चकनाचूर करे ऐसी अब कोई बंदूक  नहीं |  
जब हमने  सोचा  की  कौन बनाएगा  हमारे  सोने  की चिड़िया  को समृद्ध,
तब उठे  टाटा  , अम्बानी और अडानी जी जैसे कर्मठ  उद्योगपति  |
जिनके फैसलों   की बदौलत  आज भारत बना है कलयुग का कुबेर ,
जिसे  देख  विदेशों ने भी तोड़ी  भेदभाव  की दीवार  |
वो  वक़्त  भी हमने देखा जब योग  को समझा  जाता था ओल्ड स्कूल ,
पर आज  इस  ओल्ड  स्कूल खिलाड़ी  को दिया है दुनिया  ने  डैडी  कूल  का खिताब |
जब   पोलियो ने किया तबाही  का तांडव ,
तभी हमारे सफ़ेद  देवदूतों  ने बनाया  टीकाकरण  को एक ऐसा बह्रमास्त्र  |
जिसे  देख आज  भी  पोलियो माँगे  अपने अश्रु  को छुपाने के लिए वस्त्र ,
चाहे  मंगलयान  का सफल परिक्षण  हो या हमारे जबाज़ो  के द्वारा बालाकोट  का विध्वंश |
चाहे वानखेड़े   में  देखा इसने तिरंगे  की ताकत या सुनी  इसने गाबा  में युवा  भारत  की हुंकार  |
देखा मैंने  सिर्फ इसमें एक उत्सुख बालक  के भाँति  ,
जो ला  सकता  सारे विश्व  में विवेकानंद  जैसी क्राँति  |

©️ Vibhor Bijoy dilsedoalfaazdobara

SALUTE TO THE BRAVE HEARTS

The strong , bold decisions and audacious, bold personality,
Of the dauntless and courageous brave hearts of this country,
Who sacrificed their holy lives for our security, their constant love and partiality,
For their fellow people of motherland, India,their country.

They never looked back for their families,
But went through their own responsibilities,
They never thought of their own lives,
Nor cared whether they would die or survive.

The brave hearts who got mixed with the earth,
Got disconnected with the happiness and mirth,
Who were killed and dispatched brutally,
But were wrapped with the Tiranga carefully.

Their wish was to see their motherland, unbound,where their Tiranga would fly freely in the sky,
Where the laughter of innocent children will go up high,
Where people will move independently​ here and there without any hesitation,
Where people will be able to express freely, their feelings and emotions.

But though their motherland was safe,secure and free finally,
They had to sacrifice their own dear lives, painfully and achingly,
Just to make sure for the happiness and freedom for the next generation,
Just to claim independence and respect , which India needed together as a nation.

©Sattwika Chatterjee

INDIA -UNITES US FOREVER

Vivid in culture,
United in nature.
Rich in its diversity,
Often ignored in the zeal of prosperity.

Just a tint of corrupted minds,
Blames are carried by who are actually kind.
Young talented minds,
Speciality lies in every humankind…

Not confined to religious thoughts,
Let’s be an Indian first.
Not be bind by the terms and conditions,
Let’s learn the emotions first.

What makes you worry for those serving at the border?
When you can do the same in every attire.
Be loyal,be royal,
Never bow down before the wrong.
For those who have laid down their lives,
Let’s stop any more partitions now.

Partitions divide us,
Corruptions bribe us,
Emotions tie us together,
India unites us forever.

Payal Chowdhury

Vande Matram


Friends, for every Indian, his country should come first. India is the largest democracy in the world. We should salute the culture and civilization here. Let us take a pledge to build the nation, develop the country and maintain its honor.

Freedom is worth more than wealth. You can never be happy without freedom. But for the integrity of freedom, it will be necessary that we leave mutual discrimination and believe in cooperation and unity, moving from obedience to the light path of knowledge.

The blazing torch of patriotism should not be extinguished. There is definitely fog in the horizon but we are hopeful that there will be a good morning soon. Let us take a firm resolve for the upliftment of our golden republic, irrigated by our labor-seekers, India’s Vasundhara will once again be adorned with heavenly aura.

Let us, the shining sun, cut off the darkness of ignorance.

Mayaa SH

Significance Of Freedom

Freedom is all about the rights,
And every individual must know it’s price.

Freedom is the outcome of Independence,
Salute to the Saviours on which we were dependent.

So let’s not forget their sacrifice,
And let’s develop our country and improvise.

Always respect the significance of Freedom,
And let’s spread goodness and optimism.

© Aryan Sharma

75 years of independence day

Those struggles
We have to remember
The history of those 24 lines
The sacrifice for those tri colours
Its not a one day story
Its a story of million fighters
The hardest journey they have done
To live in an independent world

©srivally_pasupuleti

आजादी

आजादी कि कहानियाँ सुनी है हमने बस कहानी की रूप में,
इसका असली मतलब तो वही बता सकते हैं
जो कभी गुलाम हुआ करते थे। आजादी की कीमत तो वह बतलाएंगे जिन्होंने पहेली बार तिरंगा फेहराया था ।

इसके बारे में तो बोल सकते है सब
पर जिन्होने इसे महसूस किया था, लड़ा, जीता और मुस्कुराया,
उनका दिन है आज ।

हम भी छत पे दौरे जाते थे,
तिरंगा फहरते देखने
और गीत गुनगुनाने को आज
खुद को जैसे बहुत ऊंचा पाते थे । आज के दिन का मतलब तब नहीं पता था
पर धीरे धीरे समझ आया,
हिंदुस्तान खुद का हुआ था आज ।

आजादी कि बाते हर तरफ़ आज होंगी सब गुण गाएंगे आजादी कि आज,
कयोकि साल भर तो हिंदुस्तानिया ही नहीं
एक दूसरे को आज़ाद,
अंध विश्वास, उच्च नीच, पढ़ा और अनपढ़ ,
धनी गरीब में ही बंधे रह जातें है हम ।

देश भक्ति के नाम पे तिरंगा ही लगाना है या
अपनी जिम्मेदारी को समझ के
नये इंडिया का निर्माण भी करना है । Pubg मे मर के ohh shit karne वालो,
कभी तुम शरहद पे जान गुमने वालो से पूछना,
कितना त्याग, परिश्रम, वक़्त और मेहनत लगता है,
हर एक रिश्ते के आगे जब खुद के मातृभूमि को
रख के जान देना पड़ता है।

आजादी का मतलब अब तो तुम Google भी कर सकते हो,
पर वो बलिदान तुम अपनी जान,
देश के लिए क्या दे सकते हो?
पुर्खो कि वो खबरे, उनकी हिम्मत, जज्बे कि बाते होती है
पर सिर्फ आज ।

देश भक्ति के नाम पे dp status बदलेंगे,
भेजे जायेंगे photos aur video हर तरफ आज
कल से तो वही होगा जो रोज होता है,
भाग दौर की ज़िन्दगी में देश के लिए समय कहा होगा किसी के पास ।

~ जॉयस जया रौनियार ©

How Our Nation Celebrated Independence Day?

Independence Day Celebration In Hospital

Few Lines From Trishna Chakraborty

On the eve of the celebration of India’s 75year of Independence, We distributed fruits and light refreshments to Haflong Civil Hospital and Haflong Jail.

It was indeed a beautiful day, At 7 am, I with my friends went to the field to see the flag hoisting and March past. At 11 am Our NGO Team met together and with all foodstuffs, we reached Haflong Civil Hospital, to distribute refreshments to each and every ward, I felt sad to see people sick, but when we distributed in the Pediatric ward, I felt so blessed so cute babies were there and In gyno ward, newborn babies with their mother, I got touched by pure soul and so emotional scene, the face of their cute faces will make one heal. The patients were so happy, they handshakes with us, thanked us, show their gratitude, I enjoyed this auspicious day.

Independence Day

And then, we distributed fruits and light refreshments to Haflong Jail, The people in the Jail, were happy and one person just cried in front of me, Maybe his daughter is my age.

On this Auspicious day, distributing refreshments makes them happy, more than them, felt so happy.

Every Indian Celebrated HarGharTiranga

All the Indian Citizens clicked a picture with the Indian Flag and here is an example राष्ट्रीय शिक्षा रत्न Dr. Ritu Gupta@Ritz, hails from Kolkata, the “City Of Joy” shared a picture holding the Indian flag on Independence Day as a tribute to the nation. Nothing came easy to her. She has struggled her way through adversities, by her relentless efforts, Never Give Up Attitude with undivided focus, dedication and integrity, to the Place Of Adoration and Recognition, she has achieved today, etching her own identity, in the World of Education and the Society.

Vande Mataram

VANDE MATARAM is an anthology compiled by Siddharth Mishra and Nilanjana Sarkar , under Sian Publication . Twenty co-authors penned their wonderful thoughts on theme ”independence” in this anthology. This anthology is written using simple and easily understandable words. This anthology depicts that how our freedom fighters fought for the independence against britishers.
So this book is a masterpiece from Siddharth and Nilanjana which is published under Sian Publication .Those words in paper are not just write up it’s an emotions!!

Bharat Bhumi Jaan Se Pyaari

Bharat Bhumi Jaan Se Pyaari is an anthology compiled by Siddharth Mishra , under Sian Publication . Twenty co-authors penned their wonderful thoughts on theme ”independence” in this anthology. This anthology is written using simple and easily understandable words. This anthology depicts that how our freedom fighters fought for the independence against britishers.
So this book is a masterpiece from Siddharth which is published under Sian Publication .Those words in paper are not just write up it’s an emotions!!

Ashlin Publication

Ashlin Publication celebrate 75th Independence Day in which Durlav Sarkar and Abhilash Rout were invited as guests.

Independence Day In School

Independence Day got celebrated all over India in all schools and here is a picture shared by a teacher of a school, Komal Arora with her student holding the Tiranga.

A Tribute To The Nation
Anjana Burman Recited On Topic : India

Independence Day got celebrated all over India in each and every state and here is a picture shared by Anjana Burman where she is reciting about our nation, India.

Independence Day Celebrated By Painters

Independence Day got celebrated all over India in all states and here is a picture of Tiranga shared by Sanjana Somani by which she gives a tribute to the nation.

Independence Day Celebrated By Vocalists

Independence Day got celebrated all over India in all states by the youth and here is an example in which a young girl from Malda, West Bengal recites a small poem on our country to give a tribute to the nation and celebrates Independence Day with INKZOID FOUNDATION.

Independence Day Celebrated By Musicians

Aroan Chatterjee plays music tagging INKZOID FOUNDATION and tried to celebrate Independence Day with INKZOID FOUNDATION and gave a tribute to the nation.

Independence Day Celebrated All Over India

Independence Day is celebrated all over India and here is a photograph clicked by Sohini Sarkar which shows how it is celebrated in West Bengal.

Independence Day Special Article

The top 8 exceptional women of India are Mayaa SH,Ruchi Rachit Singla,Payal Chowdhury,Manisha Venkatesan,Seema Mishra,Megavarthini R,Mansi Sali and Kadambari Gupta.INKZOID FOUNDATION honoured these legendary talents on Independence Day as it was an initiative by the founder of INKZOID, Durlav Sarkar to feature and felicitate the prides of India and it is also a symbolism of women empowerment shown by his team.

How INKZOID FOUNDATION Celebrated Independence Day?

Therefore this is how INKZOID FOUNDATION celebrated Independence Day in a grand way which is a sign of respect towards the nation and gave platform to writers and other budding talents to show up their creativity and love through their write-ups and other activities which includes dance, recitation etc.

Durlav Sarkar

This initiative taken by the founder of INKZOID FOUNDATION, Durlav Sarkar helped them to give them a recognition through this article for their contribution in celebrating Independence Day with INKZOID FOUNDATION which shows their love and respect for our country.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.